Thana Adhyaksh Meaning In English|Station House Office Meaning In Hindi 2023

ज्यादातर लोगों का सपना थाना अध्यक्ष बनने का और लोगों की रक्षा का। इसके लिए आप लोगों को काफी मेहनत करनी पड़ती है और इसी वजह से आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए बताएंगे कि thana adhyaksh क्या होता है और आप किस प्रकार अपने thana adhyaksh के सपनों को बुलंदी पर ले जा सकते हैं।

क्या मतलब होता है thana adhyaksh का?

एक पुलिस स्टेशन के मुख्य अधिकारी को थाना प्रभारी या थाना अध्यक्ष के नाम से संबोधित किया जाता हैं। और अंग्रेजी में थाना अध्यक्ष को Station House Officer के नाम से भी संबोधित किया जाता है। अगर छोटी भाषा में कहें तो इन्हें SO भी कहा जाता है। साथ ही आप को यह भी बता दे कि किसी भी पुलिस स्टेशन का संपूर्ण नियंत्रण थाना अध्यक्ष के हाथों में ही होता है।

कौन होता है थानेदार?

भारत देश में आमतौर पर पुलिस निरीक्षक को एक पुलिस स्टेशन का प्रभारी अधिकारी माना जाता है। भारत देश में हर पुलिस स्टेशन में एक कांस्टेबल कॉन्स्टेबल (सिपाही / हवलदार), हेड कॉन्स्टेबल, सब इंस्पेक्टर (उप निरीक्षक) और इंस्पेक्टर (निरीक्षक / थानेदार) को शामिल किया जाता हैं।

प्रभारी को क्या कहा जाता हैं पुलिस थाने के?

पुलिस स्टेशन का नेतृत्व करने के लिए पुलिस थाने के प्रभारी अधिकारी को ही कहा जाता है जो कि पुलिस स्टेशन का इंस्पेक्टर या फिर सब इंस्पेक्टर हो सकता है। साथ ही जो अधिकारी विशेष कार्यकारी अधिकारी होते हैं उनका काम आदेशों को पोस्ट करना और अधिकारियों के पद को हटाना होता है।

क्या बोला जाता हैं थाने के इंचार्ज को?

आप को बता दे कि जो भी पुलिस स्टेशन का मुख्य अधिकारी होता हैं उन्हें थाना प्रभारी या थाना अध्यक्ष के नाम से जाना जाता है। जिनको हम एसएचओ (SHO), एसओ (SO), प्रभारी निरीक्षक (Inspector in charge), थानेदार और कोतवाल के नाम से संबोधित करते हैं। और साथ ही थाने का सबसे बड़ा अफसर (Senior Officer) थाना प्रभारी या थाना अध्यक्ष ही होता है।

thana adhyaksh कैसे बन सकते हैं?

बहुत से लोगों का बचपन से ही सपना होता है कि वह थाना अध्यक्ष बने और आप को थाना अध्यक्ष बनने में और आपके सपनों को पूरा करने के लिए आज हम आपको ऐसे दो तरीके बताएंगे जिससे आप थाना अध्यक्ष बन सकते हैं। थाना अध्यक्ष बनने के लिए आज हम आपको दो प्रक्रिया बताएंगे जिसमें प्रमोशन और एग्जाम दो चीज़े शामिल है।

प्रमोशन के द्वारा:

  • सबसे पहले थाना अध्यक्ष बनने के लिए आपके लिए पुलिस डिपार्टमेंट में इंस्पेक्टर या Sub-Inspector का पोस्ट प्राप्त करना आवश्यक होगा।
  • पुलिस डिपार्टमेंट इंस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर को प्रमोशन के द्वारा आपको थाना प्रभारी पोस्ट के लिए नियुक्ति प्राप्त की जाती हैं।
  • इंस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर के रूप में अच्छे और ईमानदारी पूर्वक कार्य करके Promotion के द्वारा स्टेशन हाउस ऑफिसर बना जा सकता हैं।

एग्जाम के द्वारा:

  • सबसे पहले थाना प्रभारी बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से आपके लिए किसी भी सब्जेक्ट में Graduation पास करना आवश्यक होगा।
  • ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करने के बाद थाना प्रभारी के लिए आवेदन करना होगा।
  • समय-समय पर थाना अध्यक्ष की भर्ती के लिए सरकार नोटिफिकेशन जारी करती है।
  • जिसमें आप को आवेदन करना होगा।
  • बाद में आवेदन करने के बाद एग्जाम को क्लियर करना जरूरी होता है।
  • साथ ही सब इंस्पेक्टर एग्जाम की तरह ही इसे भी आयोजित किया जाता है।
  • आपके एग्जाम क्लियर होने के बाद आप को थाना अध्यक्ष की पोस्ट मिल जाएगी।
  • साथ ही बता दे कि कभी-कभी सब इंस्पेक्टर एग्जाम के माध्यम से भी पुलिस विभाग द्वारा थाना अध्यक्ष की नियुक्ति सुनिश्चित की जाती है।
  • जिनका रैंक सब इंस्पेक्टर की परीक्षा में अच्छा होता है उनका चयन थाना अध्यक्ष के पद पर कर दिया जाता है।

कितनी सैलरी मिलती है thana adhyaksh को?

बता दे किथाना प्रभारी की सैलरी अच्छी-खासी ही होती है। थाना प्रभारी की सैलरी 45,000 रूपये प्रतिमाह होती हैं।. थाना अध्यक्ष का वेतन भी Sub-Inspector की सैलरी के बराबर ही दिया जाता है। साथ ही वेतन के अलावा सेवानिवृत होने पर पेंशन की सुविधा भी प्रदान की जाती है।

क्या योग्यता होनी चाहिए thana adhyaksh के लिए‌?

thana adhyaksh बनने के लिए आप को कुछ योग्यता निम्न दी हुई है, जिनमें शामिल हैं।

  • उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी सब्जेक्ट में Graduation पास करना।
  • कम से कम 50% अंकों का होना ग्रेजुएशन में।

Also read:

Leave a comment