PGT Syllabus Hindi, UP PGT Syllabus 2023

हम सबके जीवन में शिक्षक का एक बड़ा ही महत्व होता है। हमारे लिए शिक्षक ज्ञान का भंडार होता हैं। शिक्षक ही होते है जिनकी वजह से हम इतना कुछ अपनी जिंदगी में सीख पाते हैं। बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं, जिनका सपना टीचर बनने का होता हैं। और उनका सपना टीचर बनकर बच्चों को ज्ञान देना होता है। इसी टीचर की जॉब के बीच हम एक नाम सुनते हैं जिनको हम PGT बोलते हैं। pgt syllabus hindi के बारे में बताने के लिए आज हम आपके लिए आर्टिकल लेकर आए हैं। अधिक जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

PGT की फुल फॉर्म

PGT की फुल फॉर्म पोस्ट ग्रेजुएशन टीचर होती हैं, जिसको इंग्लिश में Post Graduate Teacher कहते है। यह भी एक तरह का एग्जाम ही होता है।

PGT के बारे में जानकारी

पीजीटी जिसको पोस्ट ग्रेजुएट टीचर भी बोलते हैं। यह टीचिंग की एक प्रोफाइल है। इसके अंतर्गत अप्लाई करना काफी आसान होता है‌। इसमें उम्मीदवार को किसी पात्रता परीक्षा या फिर विशेष प्रोफेशनल डिग्री को लेने की जरूरत नहीं पड़ती है। उम्मीदवार जिनके पास में मास्टर डिग्री है, वह भी इसके लिए आवेदन करने के लिए योग्य होते हैं।

पीजीटी परीक्षा के लिए पात्रता मानदंड

पीजीटी परीक्षा के पात्रता मानदंड में कुछ पॉइंट्स को शामिल किया जाता है, जिनके बारे में आपको नीचे दिया गया है।

  • सबसे पहले उम्मीदवारों के लिए यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि उम्मीदवार पीजीटी परीक्षा के लिए सरकारी संस्थानों संबंधित पात्रता मानदंड को पूरा करें। अन्यथा अगर पात्रता मानदंड को पूरा नहीं किया जाएगा। तो उसे खारिज भी किया जा सकता है।
  • साथ ही पीजीटी परीक्षा पात्रता मानदंड विभिन्न स्कूलों, संचालन निकायों और राज्यों के लिए भिन्न हो सकते हैं।

पीजीटी परीक्षा की शैक्षिक योग्यता

पीजीटी परीक्षा से संबंधित शैक्षिक योग्यता भी शामिल की जाती हैं, जिस के बारे में आपको नीचे दिया गया है।

सबसे पहले उम्मीदवार के पास भारत की किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से प्राप्त हुई मास्टर डिग्री होना आवश्यक है। जिसमें उम्मीदवार के पास कम से कम 50% अंक होने जरूरी है।

कभी कभी कुछ मामलों में B.Ed डिग्री आवश्यक हो जाती है। साथ ही उम्मीदवार की मास्टर डिग्री भी उसी विषय में होनी चाहिए। जिस विषय में उम्मीदवार स्नातकोत्तर स्तर को पढ़ाना चाहता है। उदाहरण के तौर पर अगर कोई उम्मीदवार स्नातकोत्तर स्तर पर अंग्रेजी पढ़ना चाहता है, तो उसके पास अंग्रेजी में ही मास्टर डिग्री होनी चाहिए।

PGT Syllabus Hindi |UP PGT TGT Syllabus

विषयटॉपिक
संबंधित विषयहिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, उर्दू, नागरिक शास्त्र, भौतिकी, गणित, इतिहास, अर्थशास्त्र, भूगोल, रसायन विज्ञान, कला, समाजशास्त्र, कृषि, शिक्षाशास्त्र, मनोविज्ञान, जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, गृह विज्ञान, संगीत, वाणिज्य, सैन्य विज्ञान
अंग्रेजीIdioms, Verb, Adverb, Articles, Comprehension, Error Correction, Phrases, Subject-Verb Agreement, Sentence Rearrangement, Grammar, Fill in the Blanks, Synonyms, Sentence Rearrangement, Tenses, Antonyms, Unseen Passages, Vocabulary, आदि।
गणितबीजगणित, औसत, क्षेत्रमिति 2डी, साझेदारी, प्रतिशत, लाभ और हानि, गति, समय और दूरी, द्विघात समीकरण, पानी टंकी, काम-समय, नाव-धारा, साझा, बट्टा, आयु संबंधित प्रश्न इत्यादि।
सामान्य ज्ञान और जागरूकताइतिहास, संस्कृति, खेल, भूगोल, भारतीय संविधान, आर्थिक दृश्य, वैज्ञानिक अनुसंधान, सामान्य राजनीति, वर्तमान घटनाएं, यूपी से संबंधित इतिहास, कंप्यूटर ज्ञान, पर्यावरण अध्ययन, नवीनतम नीतियां, योजनाएं आदि।

पीजीटी परीक्षा के विषय

पीजीटी परीक्षा के विषय में उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषय के आधार पर सामान्य ज्ञान, हिंदी, अंग्रेजी, नागरिक शास्त्र, वाणिज्य, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, अर्थशास्त्र, भूगोल, इतिहास, गणित, शारीरिक शिक्षा और समाजशास्त्र जैसे विभिन्न विषय को शामिल किया जाता हैं।

पीजीटी की डिग्री

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर को संक्षिप्त में पीजीटी कहते हैं। साथ ही जो उम्मीदवार पीजीटी की डिग्री हासिल करना चाहते हैं। उनके लिए बता दे कि पीजीटी के उम्मीदवार के पास बीए, बीएससी के बाद पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री का होना आवश्यक होता है।

पीजीटी परीक्षा के फायदे

पीजीटी परीक्षा के फायदे यह होते हैं कि पीजीटी परीक्षा के बाद आप सरकारी स्कूल में अपना चयन आसानी से कर सकते हैं। इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद आप को अच्छा वेतन का लाभ दिया जाता है और साथ ही कार्य वातावरण में भी बढ़ोतरी आपको मिलती है। वैसे इन परीक्षाओं को देने के लिए कुछ पात्रता मानदंड निर्धारित किए गए हैं।

मास्टर डिग्री है जरुरी

पीजीटी डिग्री के लिए उम्मीदवार के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर की डिग्री का होना आवश्यक होता है‌‌। इसके पात्रता मानदंड के अनुसार जो भी उम्मीदवार पीजीटी की तैयारी कर रहे हैं उनकी अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष तक होनी चाहिए और साथ ही आप को यह भी बता दे कि अच्छा पीजीटी बनने के लिए उम्मीदवार को अंग्रेजी और हिंदी दोनों में निपुण होना आवश्यक होता है।

Also read:

Leave a comment