CHO Full form in Hindi 2023 | CHO Ka Full Form| Cho full form in hindi salary

क्या आप जानते हैं कि सीएचओ कौन है, और यह कैसे काम करते है। कभी कब बार इसको शब्दों में सटीक समझाना मुश्किल होता है। इसी वजह से आज हम आपके लिए यह आर्टिकल लेकर आए हैं, जिससे आप यह जान पाएंगे कि CHO कौन होते है और CHO Full form in Hindi, और कैसे काम करते है।

CHO यह एक सार्वजनिक स्वास्थ्य पेशेवर है जिससे सेवा वाले समुदायों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान की जा सकती है। आमतौर पर CHO वो होते हैं जो सरकार द्वारा संचालित क्लीनिक और स्वास्थ्य केंद्रों में काम करते हैं, साथ ही यह लोग निजी प्रैक्टिस या गैर-लाभकारी संगठनों के लिए भी काम कर सकते हैं।

बता दे कि सीएचओ को उस राज्य में लाइसेंस प्राप्त होना चाहिए जिसमें वह अभ्यास करते हैं। CHO बनने हेतु सार्वजनिक स्वास्थ्य या संबंधित क्षेत्र में एक में से मान्यता प्राप्त मास्टर डिग्री प्राप्त करना अनिवार्य होता है।

CHO Full form in Hindi

CHO Full form in Hindi

CHO Ka Full Form “Community Health Officer” होता है जिसे हिन्दी में “सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी” कहते है।

क्या होते है सीएचओ होने के फायदे?

सीएचओ कई फायदे होते है जो आपको निम्न दिये हुए है:

  • सीएचओ को अपने समुदायों के भीतर परिवर्तन का नेतृत्व करने और प्रेरित करने का अवसर मिलता है। यह सब स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देने का कार्य करते हैं। साथ ही यह सब स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर शिक्षा और संसाधन प्रदान करते हैं।
  • यह लोग बीमारी की रोकथाम और नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। साथ ही समुदाय के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने, विकसित करने और लागू करने के लिए स्थानीय स्वास्थ्य विभागों और अन्य संगठनों के साथ भी काम करने के लिए सक्षम होते हैं।
  • यह सांस्कृतिक रूप से सक्षम देखभाल प्रदान करने में सक्षम होते हैं और व्यक्तियों को उनकी ज़रूरत के संसाधनों से जोड़ने का काम करते हैं।
  • आमतौर पर CHO अपने काम के प्रति भावुक होते हैं, समुदाय की सेवा करने के लिए एक मजबूत प्रतिबद्धता भी रखते हैं।
  • पुरस्कृत अनुभव होता हैं सीएचओ बनना, जिसके अंतगर्त व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास के अवसर प्रदान किये जाते है।

CHO बनने के लिए क्या सेलेक्शन प्रोसेस है

CHO बनने का सेलेक्शन प्रोसेस कुछ इस प्रकार हैं।

रिटेन एग्जाम

इसमें आपके 100 प्रश्न पूछे जाते है और यह पेपर का समय 2 घंटे का होता है, इसमें पुछे जाने वाले प्रश्नों में

  • पैथोलॉजी
  • एटोनॉमी
  • डेमोग्राफी
  • चाइल्ड हेल्थ नर्सिंग
  • फैमिली प्लानिंग
  • एडमिनिस्ट्रेशन एंड वार्ड मैनेजमेंट
  • न्यूट्रिशंस
  • मिडवाइफरी नर्सिंग
  • Obstetrical नर्सिंग
  • मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग
  • फार्मेसी
  • कम्यूनिटी हेल्थ
  • कॉमन communicable डिजीज
  • Non communicable disease
  • फर्स्ट Aid शामिल होता हैं।

कैसे होता है डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन?

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन में आपको अपने सभी डॉक्यूमेंट्स लेकर जाना होता है, जिसमें शामिल होते हैं।

  • 10th और 12th की मार्कशीट
  • बीएससी नर्सिंग की मार्कशीट
  • CCH Certificate
  • आधार कार्ड
  • एडमिट कार्ड
  • 4 फोटो

क्या होता है इंटरव्यू में?

इन दोनों स्टेप्स को पूरा कर आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इंटरव्यू कर लेने के बाद आपको ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है, उसके बाद उसे किसी आयुष्मान भारत हेल्थ और वेलनेस सेंटर पर जॉब प्रदान की जाती है।

कितनी सैलरी मिलती हैं इसमें?

सीएचवो ऑफिसर की शुरुआती सैलरी लगभग रूपए 20500 से 40000 रूपए तक तय की जाती है।  जब कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर(CHO) भर्ती होते हैं तब उन्हें 20500 रूपए बेसिक सैलरी के तौर पर मिलते हैं। साथ ही 15000 रूपए तक का Incentive भी इन्हें दिया जाता है।

कौन सी नौकरी होती हैं सीएचओ की ?

कम्युनिटी हेल्थ ऑफीसर का काम ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना होता है। यह गांव के मरीजों का इलाज करते है तथा साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में ओपीडी का भी संचालन करते है। गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिलाओं को भी उचित सलाह प्रदान करते है।

क्या करना होता हैं सी एच ओ बनने के लिए?

सी एच ओ बनने के लिए व्यक्ति के पास बीएससी नर्सिंग या फिर पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग की डिग्री का होना जरूरी होता है। कोई भी उम्मीदवार GNM की डिग्री लेकर सी एच ओ के पद के लिए खुद को योग्य बना सकते है। साथ ही आवेदक की अधिकतम उम्र चाहे वह महिला हो या पुरुष 35 वर्ष निर्धारित की गई है।

कितने साल का होता हैं सी एच ओ का कोर्स?Cho full form in hindi salary

6 महीने तक की अवधि होती है सीसीएच कोर्स की अवधि। GNOU में इस कोर्स की फीस लगभग 15,000 रुपए है। उम्मीदवार की आयु सीमा CHO अधिकारी बनने के लिए 21 से 35 वर्ष तय की गई है। बता दे कि ओबीसी उम्मीदवारों को 3 साल और एससी/एसटी उम्मीदवारों को 5 साल की छूट दी जाती है।

Conclusion

हमें आशा है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो और समझ भी आया हो। हमें उम्मीद है कि आपके लिए हमारे द्वारा दी गई जानकारी लाभकारी साबित हुई हो और आप इसी तरह दोबारा भी हमारे और आर्टिकल्स को पढ़ना पसंद करेंगे, धन्यवाद।

For more important job ,exam, syallabus and education information, visit us at https://latestgovernmentjobs.in/

Leave a comment